ओपल रत्न

अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करें

ओपल शुक्र का रत्‍न है और शुक्र धन-धान्‍य और भोग विलास का कारक है। शुक्र के अच्‍छे प्रभावों के लिए ओपल पहनना चाहिए। तुला राशि का अधिपति ग्रह है शुक्र। तुला राशि के लोगों शुक्र के रत्‍न ओपल की अंगूठी धारण करनी चाहिए।

ओपल रत्‍न के लाभ

  • लग्‍जरी में कमी ऐशो आराम में रूकावट हो तो इस अंगूठी को धारण करना चाहिए।
  • श्रम करने पर भी यदि उचित फल न मिलता हो तो यह अंगूठी लाभकारी होती है।
  • कला और क्रिएटिविटी में बेहतर करने में भी ओपल मदद करता है।
  • ओपल रत्न पहने हुए लोगों की ज़िन्दगी में ये प्यार और खुशी लाता है और ओपल रत्न पहनने से व्यक्ति जीवन में आकर्षण कला दया संस्कृति और विलासिता से भरा जीवन जीता है.
  • दूध और दूध से बनी वस्तुओं जैसे डेयरी उत्पादों मिठाई और इसी प्रकार के व्यवसायों में कार्यरत व्यक्तियों को ओपल रत्न धारण करने से लाभ होता हैं।
  • प्रेम संबंधों में सफलता पाने के लिए भी ओपल रत्न धारण किया जाता हैं।
  • कला जगत कलात्मक कॄतियों के निर्माता रचनात्मक विषयों से जुड़े व्यक्तियों का रत्न धारण करना शुभ और अनुकूल फलदायक साबित होता हैं।
  • चिकित्सा क्षेत्र में ओपल का उपयोग हार्मोनल स्त्राव को संतुलित करने के लिए किया जाता हैं।
  • यह माना जाता है कि यह रत्न अपने धारक की भावनाओं को दर्शाता हैं। इसमें किसी भी प्रकार का कोई असंतुलन होने पर यह भावनाओं को संतुलित करने का कार्य भी करता हैं।
  • सबसे अच्छी बात यह है कि ओपल रत्न को वफादारी, सच्चाई और सहजता का प्रतीक रत्न हैं।
  • मन की चंचलता में स्थिरता लाने का कार्य यह करता हैं।
  • अपनी मनमोहक छ्टा से यह व्यक्ति की भावनात्मक स्थिति को बेहतर करता हैं और जीवन में शांति लाता हैं।
  • नेत्र चिकित्सा में इसका उपयोग किया जाता हैं।
  • दांपत्य जीवन में किसी भी प्रकार की कोई समस्या चल रही हों तो ओपल रत्न धारण करने से वैवाहिक जीवन के सु्खों में बढ़ोतरी होती हैं।
  • ओपल रत्न शुक्र का उपरत्न होने के कारण इसे प्रेम, स्नेह और विपरीत लिंग संबंधों को मजबूत करने के लिए धारण किया जाता हैं।
  • धन की देवी लक्ष्मी जी की शुभता प्राप्ति के लिए भी ओपल रत्न को धारण किया जा सकता हैं।
  • यह रत्न अपने धारक को सुख शांति और सहजता देता हैं।
  • यदि कुंडली में शुक्र रत्न बलवान हों शुभ भावों का स्वामी होकर शुभ भाव में स्थित हों तो यह
  • रत्न धारण करना धारक को स्वास्थ्य संतान और भाग्य सभी कुछ दे सकता हैं।
  • ओपल की पहली पसंद सोना होता है और दूसरी पसंद चांदी होती है

इसको पहली उंगली यानि तर्जनी उंगली में पहनना चहिये पहली ऊँगली के नीचे शुक्र पर्वत बताया जाता है।

Kundli Button 2
Lucky Gemstone 2

सावधान रहे – रत्न और रुद्राक्ष कभी भी लैब सर्टिफिकेट के साथ ही खरीदना चाहिए। आज मार्केट में कई लोग नकली रत्न और रुद्राक्ष बेच रहे है, इन लोगो से सावधान रहे। रत्न और रुद्राक्ष कभी भी प्रतिष्ठित जगह से ही ख़रीदे। 100% नेचुरल – लैब सर्टिफाइड रत्न और रुद्राक्ष ख़रीदे, अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें, नवग्रह के रत्न, रुद्राक्ष, रत्न की जानकारी और कई अन्य जानकारी के लिए। आप हमसे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते है

नवग्रह के नग, नेचरल रुद्राक्ष की जानकारी के लिए आप हमारी साइट Gems For Everyone पर जा सकते हैं। सभी प्रकार के नवग्रह के नग – हिरा, माणिक, पन्ना, पुखराज, नीलम, मोती, लहसुनिया, गोमेद मिलते है। 1 से 14 मुखी नेचरल रुद्राक्ष मिलते है। सभी प्रकार के नवग्रह के नग और रुद्राक्ष बाजार से आधी दरों पर उपलब्ध है। सभी प्रकार के रत्न और रुद्राक्ष सर्टिफिकेट के साथ बेचे जाते हैं। रत्न और रुद्राक्ष की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करें
Default image
Gyanchand Bundiwal
ज्ञानचंद बुंदिवाल जेम्स फॉर एवरीवन और कोटि देवी देवता के जेमोलॉजिस्ट और ज्योतिषी हैं। जेमोलॉजी और ज्योतिष के क्षेत्र में 16 से अधिक वर्षों का अनुभव हैं। जेम्स फॉर एवरीवन मैं आपको सभी प्रकार के नवग्रह के नाग और रुद्राक्ष उच्चतम क्वालिटी के साथ और मार्किट से आधी कीमत पर मिल जाएंगे। कोटि देवी देवता में, आपको सभी देवी-देवताओं की जानकारी प्राप्त कर सकते है, जैसे मंत्र, स्तोत्र, आरती, श्लोक आदि।

100% नेचुरल लैब सर्टिफाइड रत्न और रुद्राक्ष। मार्किट से लगभग आधि कीमत पर उपलब्ध है। मुफ्त पैन इंडिया डिलीवरी और मुफ्त 5 मुखी रुद्राक्ष के साथ। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें