सर्प रुद्राक्ष

अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करें

रुद्राक्ष शब्द दो शब्दों ‘रुद्र’ और ‘अक्ष’ से बना है जहां रुद्र भगवान शिव का नाम है और अक्ष का अर्थ है आंसू। रुद्राक्ष को प्राचीन काल से आभूषण के रूप में, सुरक्षा के लिए, ग्रह शांति के लिए और आध्यात्मिक लाभ के लिए प्रयोग किया जाता रहा है। रुद्राक्ष भगवान शिव का प्रतिनिधित्व करता है। इसे धारण करने का अर्थ है देवो के देव महादेव का आशीर्वाद प्राप्त करना। हिंदू पौराणिक कथाओं में रुद्राक्ष का अत्यधिक महत्व है। इन्हें बेहद शक्तिशाली माना जाता है। रुद्राक्ष नकारात्मक ऊर्जाओं का सफाया करते हैं और उनके पहनने वाले की रक्षा करते हैं।

रुद्राक्ष पर सर्प पर फन की भांति एक आकार सा बना होता है इस कारण इस रुद्राक्ष को सर्प या नागफनी रुद्राक्ष कहते है।

यह रुद्राक्ष काल सर्प दोष के बुरे प्रभावों से बचाव के लिए धारण किया जाता है, इसके साथ ही साथ अन्य सर्प दोषों को दूर करने में भी यह रुद्राक्ष बहुत लाभदायक होता है।

राशि के अनुसार – सर्प रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

लग्न के अनुसार – सर्प रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

सर्प रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र – ॐ भुजन्गेशाये विद्महे, सर्प्रजय धिमही, तन्नो नागः प्रचोदयात।

इस मंत्र का १०८ बार उच्चारण करके रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

सावधान रहे – रत्न और रुद्राक्ष कभी भी लैब सर्टिफिकेट के साथ ही खरीदना चाहिए। आज मार्केट में कई लोग नकली रत्न और रुद्राक्ष बेच रहे है, इन लोगो से सावधान रहे। रत्न और रुद्राक्ष कभी भी प्रतिष्ठित जगह से ही ख़रीदे। 100% नेचुरल – लैब सर्टिफाइड रत्न और रुद्राक्ष ख़रीदे, अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो हमारे YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें, नवग्रह के रत्न, रुद्राक्ष, रत्न की जानकारी और कई अन्य जानकारी के लिए। आप हमसे Facebook और Instagram पर भी जुड़ सकते है

नवग्रह के नग, नेचरल रुद्राक्ष की जानकारी के लिए आप हमारी साइट Gems For Everyone पर जा सकते हैं। सभी प्रकार के नवग्रह के नग – हिरा, माणिक, पन्ना, पुखराज, नीलम, मोती, लहसुनिया, गोमेद मिलते है। 1 से 14 मुखी नेचरल रुद्राक्ष मिलते है। सभी प्रकार के नवग्रह के नग और रुद्राक्ष बाजार से आधी दरों पर उपलब्ध है। सभी प्रकार के रत्न और रुद्राक्ष सर्टिफिकेट के साथ बेचे जाते हैं। रत्न और रुद्राक्ष की जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

Kundli Button 2
Lucky Gemstone 2

सर्प रुद्राक्ष कौनसे देवी-देवता का प्रतिक है?

रुद्राक्ष पर सर्प पर फन की भांति एक आकार सा बना होता है इस कारण इस रुद्राक्ष को सर्प या नागफनी रुद्राक्ष कहते है। यह रुद्राक्ष काल सर्प दोष के बुरे प्रभावों से बचाव के लिए धारण किया जाता है, इसके साथ ही साथ अन्य सर्प दोषों को दूर करने में भी यह रुद्राक्ष बहुत लाभदायक होता है।

राशि के अनुसार सर्प रुद्राक्ष किसको धारण करना चाहिए?

राशि के अनुसार – सर्प रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

लग्न के अनुसार सर्प रुद्राक्ष किसको धारण करना चाहिए?

लग्न के अनुसार – सर्प रुद्राक्ष कोई भी धारण कर सकता है।

सर्प रुद्राक्ष धारण करने मंत्र?

सर्प रुद्राक्ष धारण करने का मंत्र – ॐ भुजन्गेशाये विद्महे, सर्प्रजय धिमही, तन्नो नागः प्रचोदयात।
इस मंत्र का १०८ बार उच्चारण करके रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

असली सर्प रुद्राक्ष कहा से ख़रीदे?

असली और सर्टिफाइड सर्प रुद्राक्ष खरीदने के लिए सिर्फ जेम्स फॉर एवरीवन पर भरोसा करें। हमारे यहाँ आपको सभी प्रकार के रुद्राक्ष होलसेल भाव में मिल जाएंगे। अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 08275555557, 08275555507

सर्प रुद्राक्ष खरीदने से पहले ये जरुर ध्यान दे?

रुद्राक्ष कभी भी लैब सर्टिफिकेट के साथ ही खरीदना चाहिए। आज मार्केट में कई लोग नकली रुद्राक्ष बेच रहे है, इन लोगो से सावधान रहे। रत्न और रुद्राक्ष कभी भी प्रतिष्ठित जगह से ही ख़रीदे। 100% नेचुरल – लैब सर्टिफाइड रुद्राक्ष खरीदें के लिए सिर्फ जेम्स फॉर एवरीवन पर भरोसा करें, अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें – 08275555557, 08275555507

अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करें
Default image
Gyanchand Bundiwal
ज्ञानचंद बुंदिवाल जेम्स फॉर एवरीवन और कोटि देवी देवता के जेमोलॉजिस्ट और ज्योतिषी हैं। जेमोलॉजी और ज्योतिष के क्षेत्र में 16 से अधिक वर्षों का अनुभव हैं। जेम्स फॉर एवरीवन मैं आपको सभी प्रकार के नवग्रह के नाग और रुद्राक्ष उच्चतम क्वालिटी के साथ और मार्किट से आधी कीमत पर मिल जाएंगे। कोटि देवी देवता में, आपको सभी देवी-देवताओं की जानकारी प्राप्त कर सकते है, जैसे मंत्र, स्तोत्र, आरती, श्लोक आदि।

Leave a Reply

100% नेचुरल लैब सर्टिफाइड रत्न और रुद्राक्ष। मार्किट से लगभग आधि कीमत पर उपलब्ध है। मुफ्त पैन इंडिया डिलीवरी और मुफ्त 5 मुखी रुद्राक्ष के साथ। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें